जानिए भांग के क्या-क्या नुकसान और फायदे हैं, संयुक्त राष्ट्र ने खतरनाक दवाओं की सूची से हटाया

0
0

संयुक्त राष्ट्र में एक ऐतिहासिक वोट के बाद, भांग को खतरनाक दवाओं की सूची से हटा दिया गया है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की एक सिफारिश के बाद संयुक्त राष्ट्र ड्रग आयोग ने इसे दवाओं की सूची से हटा दिया है। जहां 27 देशों ने इस वोट के खिलाफ मतदान किया, वहीं 25 सदस्यों ने इसके खिलाफ मतदान किया। संयुक्त राज्य अमेरिका और ब्रिटेन के पक्ष में मतदान किया। उसी समय, भारत और पाकिस्तान ने इसका विरोध किया।

कई देशों में भांग का सेवन करने की अनुमति

इससे पहले जनवरी 2019 में, विश्व स्वास्थ्य संगठन ने 1961 में बनाई गई प्रतिबंधित दवाओं की चौथी सूची से कैनबिस और उसके रस को हटाने की सिफारिश की थी। इसका कारण दर्द से राहत सहित कई बीमारियों में इसका उपयोग बताया जाता है। भारत में, कैनबिस का उत्पादन, बिक्री, खरीद नारकोटिक ड्रग्स और साइकोट्रॉपिक सबस्टेंस (एनडीपीएस) अधिनियम (1985) के तहत दंडनीय अपराध है। संयुक्त राष्ट्र ने भारत से कहा है कि भारत को चिकित्सा उद्देश्यों के लिए भांग के उपयोग को बढ़ावा देने के लिए अन्य देशों के साथ आना चाहिए।

दुनिया के कई देशों में भांग का उपयोग औषधीय उपयोग और मनोरंजन दोनों के लिए किया जाता है। वर्तमान में, 50 से अधिक देशों ने भांग के औषधीय कार्यक्रम की अनुमति दी है। इसके अलावा, कनाडा, उरुग्वे और 15 अमेरिकी राज्यों में भांग की अनुमति है।

भांग के फायदे

अमेरिकी राष्ट्रीय नेत्र संस्थान के अनुसार, भांग ग्लूकोमा के लक्षणों को समाप्त करता है। इस बीमारी में आंख का तारा बड़ा हो जाता है और दृष्टि से जुड़ी नसें दबने लगती हैं। इससे आंखों की समस्या होती है। इसके अलावा, भांग के पौधे में पाए जाने वाले टेट्राहाइड्रोकैनाबिनॉल की छोटी खुराक अमाइलॉइड के विकास को धीमा कर देती है। अमाइलॉइड मस्तिष्क की कोशिकाओं को मारता है और अल्जाइमर के लिए जिम्मेदार होता है।

वर्ष 2015 में, अमेरिकी सरकार ने भी माना था कि कैनबिस कैंसर से लड़ने में सक्षम है। अमेरिकी सरकार की वेबसाइट cancer.org के अनुसार, कैनबिनोइड्स कैंसर कोशिकाओं को मारने में सक्षम हैं। अमेरिकी सरकार की वेबसाइट cancer.org के अनुसार, कैनबिनोइड्स कैंसर कोशिकाओं को मारने में सक्षम हैं। इसके अलावा, भांग का उपयोग कीमोथेरेपी के दुष्प्रभावों को दूर कर सकता है जैसे कि बहती नाक, उल्टी और भूख न लगना। नॉटिंघम विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने साबित किया है कि स्ट्रोक की स्थिति में भांग मस्तिष्क को नुकसान से बचाता है। कैनबिस मस्तिष्क के कुछ हिस्सों में स्ट्रोक के प्रभाव को प्रतिबंधित करता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here