क्या आपको पता है फांसी देने के बाद क्या किया जाता है उस रस्सी का

0
7

तिहाड़ जेल में पवन जल्लाद ने जिस रस्सी से निर्भया के चारों हत्‍यारों को फांसी के फंदे पर लटकाया, अब उस रस्‍सी का क्‍या होगा? आपके मन में भी यह सवाल उठ रहा होगा न। फांसी के बाद उस रस्सी के उपयोग को लेकर तरह-तरह की बातें सामने आती रही हैं। दरअसल, ब्रिटेन में जब फांसी दी जाती थी तो रस्सी जल्लाद ले जाता था। तब ब्रिटेन में यह धारणा प्रचलित हो गई कि अगर कोई इस रस्सा का टुकड़ा घर पर रख ले या उसका लॉकेट पहन ले तो उसकी किस्मत बदल सकती है।

भारत में इस रस्‍सी के साथ क्‍या किया जाता है, अब वो जानिए । भारत में भी ये रस्सी जल्लाद को ही दे दी जाती है, या कहें  जल्लाद ही इसे ले जाता है। साल 2004 में जब नाटा मलिक जल्लाद ने दुष्‍कर्म और मर्डर के दोषी धनंजय चटर्जी को फांसी पर लटकाया था तो  उसने इस रस्सी को टुकड़ों में काटकर इसे बेचा और कमाई की । बताया जाता है कि उस दौरान मल्लिक ने खूब कमाई की । उस दौरान बंगाल में ये अंधविश्वास फैल गया कि इस रस्सी का लॉकेट पहनने से किस्मत पलट जाएगी, रोजगार मिल जाएगा, व्‍यापार में फायदा होगा और भी ऐसा बहुत कुछ ।

हालांकि अब इस रस्सी को जला दिया जाता है। जब विवादित कैदी या बड़े आतंकवादी को फांसी दी जाती है तो फांसी वाली रस्सी को भी तत्‍काल नष्ट कर दिया जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here