Happy lohri 2021: कैसे मानते हैं लोहड़ी, जानिए नए जोड़ों के लिए क्यों है खास

0
0

13 जनवरी दिन बुधवार यानी आज देशभर में लोहड़ी का पर्व मनाया जा रहा हैं मान्यताओं के मुताबिक लोहड़ी का पर्व मुख्य रूप से सूर्य और अग्नि देव को समर्पित होता हैं लोहड़ी की पवित्र आग में नवीन फसलों को समर्पित करने का भी विधान हैं इसके अलावा इस दिन लोहड़ी की अग्नि में तिल, रेवड़ियां, मूंगफली, गुड़ और गजक आदि भी समर्पित किया जाता हैऐसा करने से यह माना जाता है कि देवताओं तक भी फसल का कुछ अंश पहुंचता हैं साथ ही मान्यता ऐसी है कि अग्नि देव और सूर्य को फसल समर्पित करने से उनके प्रति श्रद्धापूर्वक आभार प्रकट हो जाता हैं जिससे उनकी कृपा से कृषि उन्नति और लहलहाती हैं। तो आज हम आपको इस पर्व को कैसे मनाते हैं इसके बारे में बताने जा रहे हैं तो आइए जानते हैं।

लोहड़ी मनाने के लिए लकड़ियों की ढेरी पर सूखे उपल्ले भी रखे जाते हैं समूह के साथ लोहड़ी पूजन करने के बाद उसमें तिल, गुड़, रेवड़ी और मूंगफल का भोग लगाया जाता हैं गोबर के उपलों की माला बनाकर मन्नत पूरी होने की खुशी में लोहड़ी के समय जलती हुई आग में उन्हें भेंट किया जाता है इसे चर्खा चढ़ाना भी कहा जाता हैं।जिस घर में नई शादी हुई हो, शादी की पहली वर्ष गांठ हो या संतान का जन्म हुआ हो, वहां तो लोहड़ी बड़े ही जोरदार तरीके से मनाई जाती हैं लोहड़ी के दिन कुंवारी लड़कियां रंग बिरंगे कपड़े पहनकर घर घर जाकर लोहड़ी मांगती हैं माना जाता है कि पौष में सर्दी से बचने के लिए लोग आग जलाकर सुकून पाते हैं और लोहड़ी के गाने भी गाते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here