राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप की बढ़ती मुश्किल, सीनेट ने महाभियोग का फैसला जनता को सौपने की पेशकश की

0
4

जयपुर।अमेरिका के राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप पर चलाए जा रहे महाभियोग को लेकर राष्ट्रपति ट्रंप की मुश्किलें बढ़ती दिखाई दे रही है।प्रतिनिधि सभा के द्वारा 228 मतों से महाभियोग चलाए जाने के प्रस्ताव को पारित कर देने के बाद सीनेट में इसके ट्रायल के लिए भेजा गया है।इस दौरान वहां पर सीनेट सदस्यों में मतभेद देखने को मिला है।सीनेट में व्हाइट हाउस के वकीलों ने महाभियोग की सुनवाई में राष्‍ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का बचाव किया है।

व्हाइट हाउस के वकीलों ने अपनी दलील देते हुए बताया कि राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने यूक्रेन के साथ बातचीत में कुछ गलत नही किया और अब अमेरिका की संसद को नहीं, बल्कि अमेरिकी लोगो और मतदाताओं को ही राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप के भाग्य का फैसला करने देना चाहिए।

प्रतिनिधि सभा के द्वारा लगाए गए आरोपो के आधार पर राष्ट्रपति ट्रंप के महाभियोग के बचाव पक्ष में लड़ रहे व्हाइट हाउस के वकील पैट सिपोलोन ने बताया है कि यदि सीनेट प्रतिनिधि सभा की राह पर चलती है और अमेरिकी राष्‍ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप को पद से हटाने का फैसला लेती है तो यह एक प्रकार से शक्ति का दुरुपयोग कहलायेगा।

व्हाइट हाउस के वकील सिपोलोन ने बताया कि संसद के सीनेटर रिपब्लिकन और डेमोक्रेट्स ऐसा कुछ करने के लिए प्रस्‍ताव कर रहे है जो कि सीनेट में आज तक नहीं किया गया है।

वहीं सदन के मुख्य अभियोजक और महाभियोग जांच समिति के प्रमुख एडम शिफ ने बताया है कि राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप पर लगाए गए आरोपो के आधार पर चलाया जा र​हा महाभियोग सही है और राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप को इस पद हटा देना चहिए,क्योकि अब राष्ट्रपति ट्रंप लोकतंत्र के लिए एक खतरा बन गए है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here