Saluting The Legends:जहीर खान की तेज गेंदबाजी के आगे बड़े-बड़े बल्लेबाज टेकते थे घुटने, आंकड़े देते हैं गवाही

0
1

जयपुर स्पोर्ट्स डेस्क।।भारतीय क्रिकेट इतिहास में खतरनाक तेज गेंदबाजों की बात की जाती है तो जहीर खान का नाम भी प्रमुख रूप से लिया जाता है ।बता दें कि जहीर खान ने लंबे वक्त तक टीम इंडिया के लिए मुख्य तेज गेंदबाज के रूप में सेवाएं दी। आइए गौर करते हैं उनके करियर पर –

इंजीनियरिंग छोड़कर बने क्रिकेटर-
जहीर खान का का जन्म 7 अक्टूबर 1978 को महाराष्ट्र के श्रीरामपुर में एक मध्यम वर्गीय परिवार में हुआ था। जहीर अपनी बीटेक को अधूरी छोड़ते हुए क्रिकेटर बने थे। जहीर को अपने पिता का भी समर्थन मिला था।
करियर  —
जहीर खान ने अपने करियर में गेंद और बल्ले दोनों से जलवा दिखाया । उन्होंने 12 नवंबर 2000 को बांग्लादेश के खिलाफ टेस्ट डेब्यू किया और इसी साल 3 अक्टूबर को केन्या के खिलाफ वनडे डेब्यू किया । वहीं 1 दिसंबर 2006 को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ उन्हें टी 20 डेब्यू का मौका मिला । अपने पूरे करियर में जहीर ने 92 टेस्ट मैच खेले जिनमें 311 विकेट चटकाए, वनडे के तहत 200 मैचों में 282 विकेट लिए और 17टी 20 मैचों में 17 विकेट हासिल किए । बल्ले से जलवा दिखाते हुए टेस्ट में 1231 और वनडे में 792, वहीं टी 20 में 1
दिग्गजों बल्लेबाजों ने जहीर के सामने टेके घुटने-
जहीर खान की खतरनाक गेंदबाजी का दिग्गज बल्लेबाजों  में खौफ रहा करता था । यहां तक की दक्षिण अफ्रीका के बल्लेबाज ग्रीम स्मिथ उनके आगे घुटने टेक देते थे। अपने करियर में जहीर ने सबसे ज्यादा 13 बार ग्रीम स्मिथ का शिकार किया है । वहीं कुमार संगाकारा को 11 , सनथ जयसूर्या और मैथ्यू हेडन को 10-10 बार आउट किया।

विश्व कप में शानदार प्रदर्शन –
जहीर खान अपने विश्व कप प्रदर्शन के लिए खासतौर से जाने जाते हैं। 2003 विश्व कप में उन्होंने 11 मैचों में 18 विकेट लिए थे। उनके प्रदर्शन के दम पर ही टीम फाइनल तक पहुंच पाई। वहीं टीम इंडिया को 2011 विश्व कप दिलाने में भी जहीर का योगदान रहा है। उन्होंने टूर्नामेंट 9 मैचों में सबसे ज्यादा 21 विकेट लिए।

संन्यास के बाद कोच की भूमिका में आए नजर–
जहीर खान ने आखिरी बार टीम इंडिया के लिए मुकाबला साल 2012 में खेला। संन्यास के बाद वह आईपीएल में बतौर कोच की भूमिका में नजर आए हैं। मुंबई इंडियंस के लिए सलाहकार भी रहे हैं। क्रिकेट में अहम योगदान के लिए जहीर पद्म श्री पुरस्कार भी मिला है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here