Saluting The Legends : ललिता पवार

0
1

ललिता पवार का नाम भारत की टॉप एक्टर्स में शुमार है अपने अलग तरह के किरदार निभाने की कला से ललिता पवार ने अपना अलग ही नाम कमाया है। ललिता पवार  का जन्म 18 अप्रैल 1916 में नासिक में हुआ। ललिता पवार  का मूल नाम अम्बा लाक्स्मन राव सगुन था। ललिता पवार  के पिता एक बहुत आमिर रेशम और कपास के टुकड़ो के व्यापारी थे उसके पिता का नाम  लक्ष्मण राव शगुन था। ललिता ने छोटी सी उम्र से ही अपने अभिनय के सफ़र की शुरुवात की थी। सिर्फ नो साल की उम्र में उन्होंने फिल्म राजा हरिश्चंद्र में काम किया। उसके बाद उन्होंने साइलेंट फिल्मो में काफी काम किया ।

ललिता पवार ने हिंदी फिल्मो के साथ साथ मराठी और गुजरती फ़िल्मो में भी काम किया। करीब 700 से ज्यादा फ़िल्मो में काम करने वाली ललिता अपनी अलग तरह की भूमिकाए निभाने के लिए जानी जाने लगी। ललिता ने एक लम्बे वक्त तक हिंदी फिल्मो में अपना छाप छोडती रही।

ललिता पवार के फ़िल्मी सफ़र की अगर बात करे तो राम शास्त्री, दहेज़, दाग, सुजाता, हम दोनों, सेहरा, ग्रहस्ती, फूल और पत्थर, अनारी, नौ दो ग्यारह , श्री 420, नूर जेहन, आबरू , गोपी, जलवा ,आज का ये घर , मंजिल  कलि घटा ,  घर संसार आदि फिल्मो में उन्होंने काम किया जो बॉक्स ऑफिस पर काफी कामयाब रही और अपने अभिनय से उन्होंने सबका दिल जीत लिया।

फ़िल्मो के साथ साथ ललिता जी ने टीवी पर भी अपनी अमर छाप छोड़ी , एक वक्त के सबसे कामयाब टीवी शो रामायण में उन्होंने मंथरा का किरदार जिस खूबी से निभाया वो सच में क़ाबिले तारीफ है। किसी किरदार में जान केसे डालते है यह ललिता पवार बखूबी जानती थी। यहि वजह थी की वह इतनी ज्यादा कामयाब रही।

ललिता पवार की निजी जिंदगी की अगर बात करे तो  उनकी पहली शादी गणपतराव पवार से हुई थी, ललिता की छोटी बहन से उनके  अफेयर के बाद वो शादी टूट गयी । उसके बाद  उन्होंने बॉम्बे के अंबिका स्टूडियो के फिल्म निर्माता राजप्रकाश गुप्ता से शादी की।

ललिता पवार ने 24 फरबरी 1998 को पुणे में अपनी आखिरी सास ली , और हमारी यादों में अपने किरदारों की एक अमर छाप छोड़ गयी। ललिता पवार जेसे कलाकार सदेव  हमारे दिल में एक अलग जगह बनाए रखेगे। समाचार नामा उनके काम को सलाम करता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here