Saluting The Legends: वीरेंद्र सहवाग जैसा कोई नहीं, विस्फोटक बल्लेबाजी से विश्व क्रिकेट पर छोड़ी छाप

0
1

जयपुर स्पोर्ट्स डेस्क।भारतीय क्रिकेट ने वैसे तो एक से बढ़कर एक क्रिकेटर दिए हैं। पर उनमें वीरेंद्र सहवाग ऐसे बल्लेबाज रहे हैं जिन्होंने विश्व क्रिकेट अपनी अलग ही छाप छोड़ी। सहवाग खासतौर से अपनी विस्फोटक बल्लेबाजी के लिए जाने गए और उनके नाम कई बड़ी पारियां दर्ज हैं। सहवाग का जन्म 20 अगस्त 1978 को दिल्ली में हुआ था आइए गौर करते हैं उनके करियर पर —

करियर —
वीरेंद्र सहवाग एक दाएं हाथ के बल्लेबाज रहे हैं। उन्होंने टीम इंडिया के लिए 104 टेस्ट मैच खेले हैं जिनमें 49.34 के औसत से 8586 रन बनाए। टेस्ट में सहवाग ने 23 शतक और 32 अर्धशतक भी लगाए । वनडे के तहत 251 मैच सहवाग ने खेले और इस प्रारूप में35.05 के औसत से 8279 रन बनाए । वनडे में 15 शतक और 38 अर्धशतक लगाए। वीरेंद्र सहवाग के नाम 19 टी 20 मचों में 394 रन भी दर्ज हैं। इसके अलावा उन्होंने स्पिन गेंदबाजी से जलवा दिखाते हुए टेस्ट में 40 और वनडे में 96 विकेट चटकाए।आईपीएल में भी सहवाग ने जलवा दिखाया और 104 मैचों के तहत 2 शतक और 16 अ्रधशतक के दम पर 2728 रन बनाए।
वनडे डेब्यू रहा खराब, पर टेस्ट में चमके –
वीरेंद्र सहवाग का वनडे डेब्यू खराब रहा था। वह 1999 में पाकिस्तान के खिलाफ पहले ही मैच में 1 रन बना सके थे और गेंदबाजी में 3 ओवर करते हुए 35 रन लुटाए थे। वहीं टेस्ट डेब्यू में सहवाग चमके थे ।2001 में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ पहले टेस्ट मैच में 105 रन ठोक डाले थे और टेस्ट डेब्यू में शतक जड़ने का रिकॉर्ड बनाया था।
 बल्ले से निकले इतने चौके – छक्के-
वीरेंद्र सहवाग को एक विस्फोटक बल्लेबाज कहा गया है और उनके आंकड़े देखकर ऐसा ही लगता है। वीरेंद्र सहवाग ने अपने पूरे करियर में छक्के और चौकों की जमकर बरसात की है।टेस्ट क्रिकेट में कुल 1233 चौके और 91 छक्के लगाए । तो वहीं वनडे के तहत 1132 चौके और 136 छक्के उनके नाम दर्ज हैं।

पाकिस्तान के खिलाफ जड़ा तिहरा शतक-
साल 2004 में जब भारत पाकिस्तान दौरे पर गई थी तब सहवाग ने टेस्ट मैच पाक गेंदबाजों की धुनाई करते हुए 309 रनों की पारी खेली थी। वीरेंद्र सहवाग तिहारा शतक लगाने वाले पहले भारतीय बने थे। यह मैच पाकिस्तान के मुल्तान में खेला गया था तभी से सहवाग का नाम ‘मुल्तान का सुल्तान’ पड़ा है। इसके अलावा सहवाग ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ चेन्नई में 319 रन बनाए थे और उनका यह टेस्ट का हाईस्कोर रहा है।

वनडे क्रिकेट में जड़ा दोहरा शतक–
वीरेंद्र सहवाग वनडे में दोहरा शतक लगाने कारनामा किया है। सहवाग ने 2011 में वेस्टइंडीज केखिलाफ 219 रनों की पारी खेली थी । वह सचिन के बाद दोहरा शतक लगाने वाले दूसरे भारतीय बल्लेबाज हैं।

सहवाग इन पुरस्कार से हुए सम्मानित-
क्रिकेट में शानदार प्रदर्शन के लिए सहवाग का कई सम्मान भी मिले । इनमें 2002 में अर्जुन पुरस्कार, 2008-09 में विज़डन लीडिंग क्रिकेटर ऑफ द ईयर, 2010 में पद्म श्री और 2010 में टेस्ट प्लेयर ऑफ ईयर का सम्मान मिला है।

संन्यास के बाद कोचिंग और कमेंट्री में हाथ आजमाया-
संन्यास के बाद वीरेंद्र सहवाग को कमेंट्री करते हुए देखा गया है इसके अलावा वह आईपीएल में किंग्स इलेवन पंजाब टीम को मेंटर के रूप में सेवाएं दे चुके हैं।यही नहीं सहवाग लगातार क्रिकेट से जुड़े मुद्दों पर अपनी राय देते रहते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here