बहुत ही खूबसूरत भारत के इन 5 आश्रम आकर कर सकते हैं एन्जॉयमेंट के साथ रिलैक्स भी

0
5

बारिश शुरू होते ही घूमने-फिरने की प्लानिंग पर भी फिरने लगता है पानी। हिलस्टेशन, बीच कहीं भी जाना आसान नहीं होता, लेकिन क्या आप जानते हैं इनसे अलग और भी कई जगहें जहां जाकर आप हो जाएंगे फ्रेश और एक्टिव। जी हां, इंंडिया में मौजूद कई तरह आश्रम को बना सकते हैं मानसून में अपना ठिकाना। जहां आप रिलैक्स करने के साथ ही वहां कराए जाने वाले कोर्सेज का भी बन सकते हैं हिस्सा।

Art of living ashram

कहां- बंगलौर से 26 किमी दक्षिण पश्चिम की ओर उदिपाल्या गांव के नजदीक पंचागिरी हिल्स पर बना है ये आश्रम और यहीं होते हैं सारे प्रोग्राम।

कोर्स- आर्ट ऑफ लिविंग 1 & 2, योग, मेडिटेशन, वास्तुशास्त्र, वेदिक मथ और यूथ ट्रेनिंग कोर्सेज़

Osho international resort

हालांकि ओशो की जीवन काफी विवादास्पद रहा लेकिन देश हो या विदेश उनके चाहने वालों की कोई कमी नहीं। हालांकि आश्रम से ज्यादा इसे रिसोर्ट कहना सही रहेगा, जहां आकर आप सारी मॉडर्न सुख-सुविधाओं का मजा ले सकते हैं। इंडियन से लेकर मॉडर्न, हर एक कल्चर की झलक यहां देखने को मिलती है। यहां लोग मैरून कपड़े पहने नजर आते हैं।

कहां- पुणे, महाराष्ट्र

कोर्स- मेडिटेशन, तंत्र वर्कशॉप और भी कई तरह के मल्टी डायवर्सिटी कोर्सेज होते हैं यहां।

Isha foundation

सद्गुरु जग्गी वासुदेव द्वारा 1992 में स्थापित ईशा फाउंडेशन ऐसी जगह है जहां योग, मे़डिटेशन से जुड़े प्रोग्राम्स में शामिल होकर आपको अलग ही एक्सपीरिएंस मिलेगा। सद्गुरु द्वार तैयार किया गया भाव स्पंदन कार्यक्रम लोगों को ऐसा मौका देता है जहां वे शरीर और मन की सीमाओं से परे, चेतना के उच्च आयामों अनुभव करते हैं। 3 से 7 दिनों तक होने वाला ईशा योग में आंतरिक खुशी और कल्याण की टेक्निक सिखाई जाती है। जिसका फर्क आप खुद महसूस करेंगे।

कहां- ईशा योग सेंटर, तमिलनाडु

कोर्स- ईशा योग, हाथ योग, एडवांस मेडिटेशन प्रोग्राम्स।

Parmarth Niketan

परमार्थ निकेतन, ऋषिकेश में बिल्कुल गंगा नदी के किनारे बना हुआ है। ये यहां का सबसे बड़ा आश्रम और योग सेंटर है। 8 एकड़ में फैले इस आश्रम में कुल 1000 कमरे हैं। जहां रूकने से लेकर योग और ध्यान की सारी सुख-सुविधाएं मौजूद हैं। यहां होने वाले इन कार्यक्रमों में देश-विदेश से आए लोगों की भारी भीड़ देखने को मिलती है। शाम को होने वाली गंगा आरती को देखने का अलग ही नजारा होता है।

कहां- ऋषिकेश, उत्तराखंड

कोर्स- मेडिटेशन, योग

श्री अरविंदो आश्रम

सन् 1926 में श्री अरविंदो और फ्रेंच महिला जिन्हें मदर के नाम से भी जाना जाता है उन्होंने इस आश्रम की नींव रखी। यहां आकर आपको अलग ही शांति और सुकून का एहसास होगा। हजारों की तादाद में यहां लोग मौजूद होते हैं लेकिन शांति ऐसी होती है जैसे आश्रम में कोई मौजूद ही नहीं।  यहां कुल 80 डिपार्टमेंट्स हैं जहां आप क्वालिटी टाइम बिता सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here