2020 में IIT Madras द्वारा 184 पेटेंट दायर किए गए

0
0

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान मद्रास (आईआईटीएम) के शोधकर्ताओं और छात्रों ने 2020 के दौरान 184 पेटेंट के लिए आवेदन किया है। पिछले साल कोविड-19 संबंधित लॉकडाउन के बावजूद पेटेंट दाखिल करने की संख्या 184 थी (भारतीय 119, अंतर्राष्ट्रीय 65), जबकि 190 फाईलिंग (भारतीय 128, अंतर्राष्ट्रीय 62) से कम पिछले वर्ष की थी।

आईआईटीएम के अनुसार, 2020 में फाइलिंग में कोविड -19 से संबंधित नौ पेटेंट शामिल हैं, जिनमें ‘सिस्टम और गंभीर तीव्र श्वसन सिंड्रोम कोरोनावायरस 2’ का पता लगाने के तरीके और ‘ए स्टैंडअलोन, पोर्टेबल सिंगल-यूज और वायरलेस एपिलेटर सिस्टम’ के अलावा ‘ए’ शामिल हैं। गैर-इनवेसिव अंशांकन-मुक्त रक्तचाप मापक के लिए प्रणाली और संक्रामक मास्क और पीपीई अपशिष्ट उपचार के लिए स्मार्ट और स्थायी उपकरण है।’

आईआईटीएम ने कहा, “चिकित्सा और स्वास्थ्य सेवा के अलावा, अन्य अत्याधुनिक क्षेत्रों जैसे 5 जी, दूरसंचार, सेंसर और इंस्ट्रूमेंटेशन में भी कई पेटेंट दायर किए गए।”

संस्थान ने यह भी कहा कि अंतरराष्ट्रीय पेटेंट दाखिल करने में लगातार वृद्धि हुई है।

आईआईटीएम ने कहा, “कैलेंडर वर्ष 2017 में 22 से, अंतर्राष्ट्रीय पेटेंट की कुल संख्या केवल चार वर्षों में लगभग तीन गुना हो गई है, जो 65 तक पहुंच गई है।”

संस्थान ने कहा कि यह भारतीय पेटेंट कार्यालय में अंतिम आवेदन के ऑनलाइन दाखिल (ई-फाइलिंग) की सुविधा प्रदान करता है और पेटेंट रखरखाव और पेटेंट के कामकाजी बयानों को दाखिल करने के लिए इन-हाउस प्रबंधन करने के लिए भी सुसज्जित है।

संस्थान ने पेटेंट आवेदन फाइलिंग, पेटेंट आवेदन के अनुरक्षण, रखरखाव (विदेश) के लिए प्रतिष्ठित बौद्धिक संपदा (आईपी) फर्मों को आईपी गतिविधियों से संबंधित सहायता प्रदान की है।

–आईएएनएस

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here